होम / पोस्ट

कैसे और कहां से प्राप्त होगा ? कैसे होता है फास्टैग ऑनलाइन रिचार्ज ? यहां जानिए पूरी डिटेल

उत्तराखंड : 16 फरवरी से राष्ट्रीय राजमार्ग से गुजरने वाले सभी वाहनों पर फास्‍टैग लगाना अनिवार्य हो गया है। इस तकनीक का इस्तेमाल देशभर के नेशनल हाईवे के टोल प्लाजा पर होगा। अब आपके मन में यह सवाल जरूर होगा कि इसे कैसे और कहां से लिया जाए ? तो जानिए पूरी डिटेल

क्या है फास्‍टैग ?
फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है। इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) का इस्तेमाल होता है। इस टैग को वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है। जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग को ट्रैक कर लेता है। 
इसके बाद आपके फास्टैग अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क कट जाता है। इस तरह आप टोल प्लाजा पर रुके बगैर शुल्क का भुगतान कर पाते हैं। वाहन में लगा यह टैग आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही अपना काम शुरू कर देगा। वहीं, जब आपके फास्टैग अकाउंट की राशि खत्म हो जाएगी, तो आपको उसे फिर से रिचार्ज करवाना पड़ेगा। 

किसे है जरूरत ?
नए वाहन मालिकों को फास्टैग के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है। वजह है क‍ि ये रजिस्ट्रेशन के समय पहले से ही उपलब्ध कराए जाएंगे। ओनर को बस फास्टैग अकाउंट को सक्रिय और रिचार्ज करना होगा। हालांकि, आपके पास पुरानी कार है, तो आप उन बैंकों से फास्टैग खरीद सकते हैं जो सरकार के राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह (NETC) कार्यक्रम से अधिकृत हैं। इन बैंकों में सिंडिकेट बैंक, एक्सिस बैंक, आईडीएफसी बैंक, एचडीएफसी बैंक, भारतीय स्टेट बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, और इक्विटास बैंक शामिल हैं। आप पेटीएम से भी फास्टैग खरीद सकते हैं। 

कहां से लें फास्‍टैग ?
चयनित बैंक:- फास्ट टैग कार्ड प्राप्त करने के लिए भारत सरकार द्वारा लगभग 22 बैंकों की एक लंबी सूची जारी की गई है जिनके जरिए आप फास्ट टैग कार्ड आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।
पीओएस (POS) :- वाहन मालिकों की सुविधा के लिए सरकार ने यह भी घोषणा की है कि वाहन चालक सीधा टोल केंद्रों पर जाकर अपना फास्ट टैग कार्ड प्राप्त कर सकते हैं। केंद्र सरकार ने इन कार्डों के लिए पॉइंट ऑफ सेल की सुविधा रखी गई है अर्थात ऐसे केंद्र बनाए गए हैं जहां से आसानी से कोई भी व्यक्ति जाकर फास्टैग कार्ड खरीद सकते हैं।
ऑनलाइन खरीद:- यदि आप घर बैठे इस कार्ड को प्राप्त करना चाहते हैं तो आप ऑनलाइन अमेजॉन के जरिए इस कार्ड को आर्डर करके सीधे घर पर ही मंगा सकते हैं।

कैसे प्राप्त करें फास्टैग ?
यदि आप ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म या POS बूथ से फ़ास्ट टैग खरीदते हैं, तो आप बिना किसी सहायता के टैग को चालू करने के लिए कुछ नियमो का पालन कर सकते हैं।
वाहन मालिक को Google Play Store से फ़ास्ट टैग ऐप डाउनलोड करना होगा। ऐप डाउनलोड करके उसमें अपना पूरा विवरण जोड़ देना होगा तथा उस ऐप को अपने खाते के साथ जोड़ना आपके लिए बेहद अनिवार्य है।
जब आप पूरी तरह से एप्लीकेशन में रजिस्टर हो जाएंगे तो आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक वेरिफिकेशन मैसेज आएगा।
ऐप पर मौजूद डैशबोर्ड के जरिए आप पूरी तरह से अपने कार्ड को संचालित कर सकते हैं और साथ ही अपने कार्ड में राशि जोड़ नहीं सकते हैं।

बैंक द्वारा फ़ास्ट टैग कार्ड प्राप्ति
सरकार द्वारा निर्धारित की गई 22 बैंकों की लिस्ट में से किसी एक बैंक में आपका खाता होना अनिवार्य है तभी आप फास्ट टैग कार्ड प्राप्त कर सकते हैं।
फ़ास्ट टैग कार्ड प्राप्त करने के लिए वाहन मालिक को आवेदन भरते समय सभी दस्तावेजों को लेकर अपने बैंक में जाना होगा जिस बैंक में वाहन मालिक का खाता पहले से मौजूद हो। 3. बैंक एजेंट आवेदक के खाते के साथ फास्टैग को जोड़ने के लिए आवश्यक कदम उठा सकते हैं।
टोल नाके पर पहुंचकर आपके खाते से स्वयं ही टोल नाके पर भुगतान की जाने वाली राशि डेबिट कर ली जाती है।

कैसे करें फास्टैग रिचार्ज ?
उपभोक्ता अपनी सुविधा अनुसार क्रेडिट कार्ड , डेबिट कार्ड , आरटीजीएस एवं नेट बैंकिंग के द्वारा अपने फास्ट टैग के खाते को बड़े आसानी से रिचार्ज कर सकता है। उपभोक्ता अपने फास्ट टैग के खाते में न्यूनतम 100 रूपये  और अधिकतम -से -अधिकतम 100000 रुपये  तक रिचार्ज कर सकता है। उपभोक्ता अपनी सहूलियत के हिसाब से किसी भी पॉइंट ऑफ सेल के अंतर्गत आने वाले टोल प्लाजा एवं एजेंसी में जाकर अपने वाहन के लिए फास्ट टैग स्टीकर और फास्ट टैग का खाता खुलवा सकते हैं। यदि उपभोक्ता यह जानना चाहता है कि उसके आसपास कौन-कौन से पॉइंट ऑफ सेल की जगह उपस्थित है, तो उसको राष्ट्रीय हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर जा कर यह चेक कर सकता है। 

5564

0 comment

एक टिप्पणी छोड़ें