होम / पोस्ट

41 साल बाद भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने ओलंपिक में रचा इतिहास, जर्मनी को हराकर जीता कांस्य पदक

टोक्यो : टोक्यो ओलंपिक में आखिरकार 41 साल बाद ओलंपिक में भारतीय हॉकी टीम ने ब्रॉन्ज मेडल जीत ही लिया। भारतीय टीम ने टोक्यो ओलंपिक में जर्मनी को 5-4 से हराते हुए कांस्य पदक अपने नाम कर लिया है। भारत ने दो बार पिछड़ने के बाद जोरदार वापसी करते हुए गुरुवार को टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक के प्ले आफ मुकाबले में जर्मनी को 5-4 से हरा दिया। इससे पहले आखिरी बार हॉकी में टीम इंडिया ने 1980 में ओलंपिक मेडल जीता था।
भारत की तरफ से सिमरनजीत सिंह ने दो जबकि रुपिंदर, हार्दिक और हरमनप्रीत ने एक-एक गोल दागे। जर्मनी के खिलाफ मुकाबले में 1-3 से पिछड़ने के बाद भारतीय टीम ने जोरदार वापसी की और 5-4 से मुकाबला अपने नाम किया। मनप्रीत सिंह की कप्तानी वाली टीम पूरे देश को हॉकी पर फिर से गर्व करने का मौका दिया है। इसके बाद भारत की पुरुष हॉकी टीम को बधाई देने का तांता लग गया है।

पीएम मोदी ने दी बधाई
पीएम नरेंद्र मोदी ने टीम को बधाई देते हुए ट्वीट में लिखा, 'ऐतिहासिक! एक ऐसा दिन, जो हर भारत की इतिहास में अंकित होगा। कांस्य पदक जीतने के लिए हमारी पुरुष हॉकी टीम को बधाई। इस उपलब्धि के साथ, उन्होंने पूरे देश, खासकर हमारे युवाओं की कल्पना पर कब्जा कर लिया है। भारत को अपनी हॉकी टीम पर गर्व है।'

5328

0 comment

एक टिप्पणी छोड़ें