होम / पोस्ट

धर्मसंसद में हेट स्पीच के मामले में वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी के खिलाफ अब ज्वालापुर कोतवाली में एक और मुकदमा दर्ज हुआ है।

धर्मसंसद में हेट स्पीच के मामले में वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी के खिलाफ अब ज्वालापुर कोतवाली में एक और मुकदमा दर्ज हुआ है। उन पर धार्मिक स्थलों, धर्मगुरुओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी और उन्मादी भाषण का आरोप है। पुलिस ने धारा 153ए और 298 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।


 हरिद्वार मे  धर्मसंसद मे 17 से 19 दिसंबर तक हुई थी  इसमें विशेष संप्रदाय के लोगों के खिलाफ युद्ध छेड़ने और एक धर्म के ग्रंथ के बारे में आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग हुआ। नदीम का कहना है कि इस प्रकरण की निंदा भारत समेत अन्य देशों में हुई। पूर्व सेना अध्यक्ष वेद मलिक और पूर्व नौसेना प्रमुख अरुण प्रकाश ने भी इसकी आलोचना की। नदीम के मुताबिक, धर्मसंसद का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें धर्म विशेष के लोगों को झूठे मुकदमे में फंसाने की मांग भी की गई। तहरीर में महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद गिरि, संत सागर सिंधू, धर्मदास, परमानंद, साध्वी अन्नपूर्णा भारती, स्वामी आनंद स्वरूप, अश्विनी उपाध्याय, सुरेश चव्हाण के और स्वामी प्रबोधानंद गिरि के नाम भी लिखे हैं। 


स्वामी आनंद स्वरूप ने कहा कि धर्म संसद में किसी ने हेट स्पीच नहीं दी। किसी को मारने की बात नहीं की, लेकिन संतों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। दूसरी तरफ जो सड़कों पर उतरकर कानून व्यवस्था भंग कर रहे हैं और पुलिस मुख्यालय का घेराव कर रहे हैं, उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं हो रही है।

6367

0 comment

एक टिप्पणी छोड़ें